हमें ऐसा अपना हिन्दुस्तान चाहिए….

0
606

आओ सभी गर्व से ये पर्व मनाएं,
उत्सव है आजादी का, तिरंगा फहराएं |

शहीदों की कुरबानी का चलो मान बढाएं
उनके सपनों वाला हिन्दुस्तान बनाएं |

जहाँ न हिन्दू बड़ा है, न मुसलमान बड़ा है
गर साथ हैं सभी तो हिन्दुस्तान बड़ा है |

न पुजारी बड़ा है, न इमाम बड़ा है
गर साथ चल पड़े,तो आवाम बड़ा है|

मजहब ने कब हमें ये भेद सिखाया?
न कोख से मां की कोई ये सीख कर आया|

क्यों मजहब को हमने फिर बदनाम किया है
क्यों देश को हिन्दू- मुसलमान किया है|

फूट-नीति देश में अंग्रेज थे लाए
नेता उसी नीति को आगे हैं बढ़ाए|

हिन्दू -मुस्लिम वोट की खातिर हैं लड़ाए
क्यों छलावा इतना सा, हमें समझ न आए|

खुद के मजहब पर  क्यों इतने तन के खड़े हैं
क्या उसकी खातिर,अभी हम इंसान बने हैं|
इंसानियत के पाठ को न गीता चाहिए
न आयतें कुरान की जुबानी चाहिए|
न धर्म के वो कट्टर ठेकेदार चाहिए
न घटिया ठेकेदारों की मेहरबानी चाहिए|

इंसानियत को बस एक इंसान काफी है
मजहब में बस वही इंसान चाहिए|
बैर न करे कोई मजहब के नाम पर
ऐसा हमें अपना हिन्दुस्तान चाहिए|

शशि सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here