बंगाल की राजनीति में मोदी-ममता आमने-सामने, मोदी ने खेला खत्म होने का दिया नारा

0
672
modi-mamta
modi-mamta

कोलकत्ता। पश्चिम बंगाल में राजनीति का पारा थमने के नाम नही ले रहा है जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे है वैसे-वैसे नेताओं ने जुबान तेज चल रहे हैं। चाहे वो टीएमसी हो या कांग्रेस या फिर बीजेपी सभी ने चुनाव जीतने के लिए कोई कसर छोड़ना नहीं चाहते हैं। इसी चुनाव प्रचार के बीच नेताओं में जुबानी जंग भी चल रही है और लोग एक दूसरे पर तमाम प्रकार के आरोप भी लगा रहे है।

भाजपा ने कोयला घोटाले को लेकर टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी के पत्नी पर सीबीआई के छापे भी इससे पहले डलवा चुकी है और तमाम चुनाव प्रचारों में शारदा चिट फंड में तमाम टीएमसी नेताओं के संलिप्तता के आरोप लगा रही है तो दुसरी ओऱ ममता बनर्जी ने भी भाजपा के नेतआों पर धर्म के आधार पर राजनीति व किसान के दुर्दशा बेरोजगारी को भाजपा के मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। इस विधानसभा चुनाव में जहां टीएमसी व भाजपा अकेले दम पर चुनाव लड़ रही है तो कांग्रेस ने लेफ्ट के साथ गठबंधन कर बंगाल के सियासी संग्राम में अपनी उपस्थिती दर्जा करा रहे हैं।

इसी प्रचार के गहमागहमी के बीच आज बंगाल में चुनाव प्रचार को लेकर काफी गर्माहट रही है जहां एक ओर भाजपा के स्टार प्रचारकर के तौर पर पीएम मोदी भाजपा के कमान संभाले हुए थे तो दुसरी ओऱ टीएमसी की ओऱ से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कई जगहों पर सभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने आज जंगलमहल क्षेत्र के पुरुलिया में एक बड़ी जनसभा को संबोधित किया औऱ क्षेत्र व राज्य के पिछडे़पन के लिए ममता व लेफ्ट सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने क्षेत्र में पानी के समस्या को भी रेखांकित किया और उसको राम के वनवास गमन से जोड़कर कहा कि जिस क्षेत्र में माता सीता को राम ने पानी दिया था आज वहां के लोग पानी के लिए तरस रहे हैं। उन्होंने ममता के नारा पर तंज कसते हुए कहा कि दीदी कहती है की “खेला होबे लेकिन भाजपा कहती है की विकास होबे, शिक्षा होबे, अस्पताल होबे, रोजगार होबे…खेला का खेल अब बंद होबे”

वहीं दुसरी ओऱ बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि भाजपा के नेता यहां चॅापर से आपके वोट को लूटने आ रहे हैं उनका बंगाल के विकास से कोई लेना देना नहीं है और नहीं यहां के लोगों से उनकी कोई साहनुभूती और लगाव है। उन्होंने आगे कहा की जब बंगाल में आम्फन तुफान आया था तो कोई भाजपा के नेता देखने नहीं आय़ा था उस दिन भी टीएमसी साथ थी और आगे भी टीएमसी ही साथ रहेगी। अपने भाषण के दौरान ममता ने एक बात को स्वीकार करते हुए कहा कि तुफान में हुई क्षति को हमारी सरकार ने हरसंभव लोगो को मदद किया है लेकिन एक-दो लोगों अपवाद के तौर पर मिस किए होंगे इसकों मैं स्वीकार करती हूं, लेकिन उनकी भी क्षतिपुर्ति की भरपाई करने के लिए टीएमसी सरकार कृत संकल्पित है और हमारी सरकार और अधिकारी उनलोगों तक पहुंचेगें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here